भारतीय फुटबॉल के सितारे जैकीचंद सिंह ने जमशेदपुर एफसी से किया करार।

 

जैकीचंद सिंह, उर्फ जैकी–जिस नाम से वह प्रसिद्ध हैं, पिछले आईएसएल सीज़न में एक शानदार प्रदर्शन के तहत जमशेदपुर एफसी में शामिल हुए हैं। पिछले सीजन उन्होंने पूर्व क्लब एफसी गोवा को लीग स्टेज के विजेता शील्ड जिताने में मदद की थी। जैकी एक टॉप रेटेड और काबिल भारतीय विंगर हैं जिन्होंने पिछले सीजन पांच गोल और तीन असिस्ट दागे और 1300 मिनट से अधिक समय खेलते हुए आईएसएल के प्ले-ऑफ तक का सफ़र पूरा किया।

 

जमशेदपुर एफसी का हिस्सा बनके जैकी ने विपुल होकर कहा, "जमशेदपुर एफसी के लिए खेलना मेरे लिए एक शानदार अवसर है। जमशेदपुर भारत का एक ऐसा क्लब है जिसमें खिलाड़ियों के ट्रेनिंग की हर एक ज़रूरत पूरी होती है और पूरे देश को पता है कि फुटबॉल के लिए झारखंड के लोग कितने उत्साहित और मुखर हैं। मुझे क्लब के दर्शनशास्त्र और लिए गए मार्ग पर पूरा विश्वास है। मैं पूरे दिल से जमशेदपुर को अपने खेल सहित योगदान देना चाहता हूँ और इस क्लब को सफलता कि सीढ़ी चढ़ने में सहयोग देना चाहता हूँ। बेशक, मैं ओवेन कोयल के मजबूत नेतृत्व में इसे प्राप्त करने के लिए उत्सुक हूँ।"

 

जमशेदपुर की टीम में जैकी के आने से मिडफील्ड में और भी ज़्यादा मजबूती आई है, जो कि क्लब को अपने लक्ष्य को पूरा करने के उद्धेश्य में मदद करेगा। इस जाने माने भारतीय विंगर ने क्लब के साथ 3 साल का क़रार किया है, जिससे वह 2023 तक क्लब के रंग पहनते हुए दिखेंगे। 28-वर्षीय विंगर, जैकी, का पिछले तीन सत्रों में धमाकेदार प्रदर्शन रहा है। वह अपनी तीव्र गति, गेंद पर नियंत्रण और गोल दागने की क्षमता के लिए जाने जाते हैं।

 

जमशेदपुर एफसी हेड कोच, ओवेन कॉयल, को भी अपने नए 28-वर्षीय विंगर को लेकर वही राय थी। उन्होंने कहा, "मन्त्रमुग्ध-एक शब्द पूरी तरह से जैकी का वर्णन करने के लिए। वह एक उच्च श्रेणी का और प्रतिभाषाली विंगर है जिसपे आईएसएल के कई टीमों की नज़र थी। एक उच्च श्रेणी के विंगर को टीम से जोड़ना हमारे प्रमुख उद्देश्यों में से एक था और मुझे उसके शामिल होने की अत्यधिक खुशी है। जैकी के होने से हमारे टीम की गति, शक्ति और रचनात्मकता बढ़ जाएगी और अधिक गोल दागने में मदद मिलेगी।"

 

जैकी ने 2009 में रॉयल वाहिंगदोह से अपने करियर की शुरुआत की जब वह केवल 17 साल के थे। उन्होंने 2009 में क्लब को दूसरे डिवीजन आई-लीग को जिताकर आई-लीग में बढ़ावा देने में मदद की। आई-लीग 2014-15 उनके लिए एक शानदार अभियान रहा। उस सीजन के दौरान सभी ने उनके मंत्रमुग्ध कर देने वाले प्रदर्शन को प्रमुखता से देखा। वाहिंगदोह के साथ जैकी के प्रदर्शन ने उन्हें भारतीय राष्ट्रीय फुटबॉल टीम में भी बुलावा दिला दिया। 28-वर्षीय के जैकी जमशेदपुर एफसी में शामिल होने से पहले एफसी पुणे सिटी, सलगांवकर, मुंबई सिटी, ईस्ट बंगाल, केरल ब्लास्टर्स और एफसी गोवा का प्रतिनिधित्व करते थे।

 

जमशेदपुर एफसी के सीईओ, मुकुल चौधरी, जैकी को टीम में पाकर बेहद खुश थे। उन्होंने कहा, "भारत के सभी फुटबॉल क्लब अपनी टीम में जैकी जैसा खिलाड़ी चाहते हैं और हमें खुशी है कि वह हमारी ओर से खेलेंगे और अगले तीन वर्षों के लिए हमारे साथ जुड़े रहेंगे। हम सबने देखा है कि वह तकनीकी रूप से एक बेहतरीन, उम्दा और तेज खिलाड़ी हैं और वह जीतने की बड़ी इच्छा रखते हैं। हम आईएसएल में उनको अपने कमाल के कारनामों को जारी रखते हुए देखने के लिए उत्सुक हैं।"

 

जैकी को आईएसएल 2020-21 सत्र के लिए स्क्वाड नंबर 12 सौंपा जाएगा।

Your Comments